उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता हैं,
जिसे चाहो वही दूर होता है...
दिल टूट कर बिखरते हैं इस कदर...
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर चूर होता है...
‐ 4 months ago by hotsonu999

— 1 Likes —
SMS Length : 344