ज़ालिम तो ये.. ठण्ड भी हैं..
मजबूर कर देती हैं..
मुझे हर बार..
तेरी बाँहों में..
समां जाने के लिए..
‐ 11 months ago by hotsonu999

— 576 Likes —
SMS Length : 243