ये मोह मोह के धागे..
तेरी उंगलियो से जा उलझे

कोई रोह टोह ना लागे..
किस तरह ये गिरह सुलझे
‐ 1 year ago by hotsonu999

— 308 Likes —
SMS Length : 224